Skip to main content

नहीं हारी हूं मैं Nahi Haari Hun Main - Hindi Poem

नहीं हारी हूं मैं |

चली थी, एक अनजान राह पर 
बेशक, मंजिल का पता न था 
पर कुछ ख्वाब सजे थे, दिल मे 
नन्ही - सी जान और कोई साथ न था |

बेख़बर थी, दुनिया पत्थर की है 
यूँ ही यहाँ कोई अपनी - 
एक मुस्कराहट भी नहीं लुटाता 
टकरा गयी उन पलों से मैं, 
खबर ही ना हुई - 

सारे ख्वाब, कब खो गए उनमें, 
बदल गयी दुनिया मेरी 
रह गया तो बस इक चेहरा, 
टूटे ख्वाब, टूटे वजूद और 
आंसुओं का सैलाब |

सहसा, धीमी - धीमी दबी - घुटी-सी
एक चीख कानों पर पड़ने लगी - 
खो रही हूँ मैं.. खो रही हूँ मैं |
क्या खुद को पा सकूंगी वापस? 

इस सवाल से जुझते-जुझते
कहीं अंतर्मन से आवाज आयी - 
आशाओं के समंदर से - 
इक बूंद जुटाकर, अब तक जी रही हूँ मैं |

वक्त भले कम पड़ जाए, 
सफर चाहे अधूरा रह जाए,
उठूंगी फिर, चलूंगी फिर-
नहीं हारी हूं मैं, नहीं हारी हूं मैं||

(स्वरचित)
: तारा कुमारी

Nahi haari hun main. 

Chali thi ek anjaan raah par
Beshaq, manzil ka pata na tha 
Par kuchh khwaab saje the,dil me
Nanhi-si jaan aur koi sath na tha. 

Bekhabar thi, duniya pathar ki hai. 
Yun hi yhan koi apni - 
Ek muskurahat bhi nahi lutata
Takra gyi un palon se main,
 khabar hi na huyi-

Saare khwab, kab kho gye unme, 
Badal gyi duniya meri 
Rah gya to bas ek chehra, 
Tute khwab, tute wajud aur
Aansuwon ka sailab.

Sahsa, dheemi -dheemi dabi-ghuti-si
Ek chikh kaano par padhne lagi-
Kho rahi hun main ... Kho rahi hun main. 
Kya khud ko pa sakungi wapas? 

Is sawal se jujhte-jujhte
Kahin anarman se aawaj aayi
Aashawon ke samandar se-
Ek boond jutakar, ab tak ji rahi hun main.

Waqt bhale kam pad jaye
Safar chahe adhura rah jaye,
Uthungi phir, chalungi phir-
Nahi haari hun main,nahi haari hun main. 

- Written by Tara kumari

Comments

Post a comment

Popular posts from this blog

ना देख सका वो पीर Na dekh saka wo pir - Hindi poem

दिल मेरा यूँ छलनी हुआ Dil Mera yun chhalni huwa - Hindi poem

मैं हूँ कि नहीं? Main Hun ki nahin? - Hindi-poem

फादर्स - डे Father's day - A Hindi poem

चाहत Chahat -Hindi poem