उलझन (प्यार का पहला एहसास) ULJHAN (First feeling of love) - Poem in Hindi

उलझन (प्यार का पहला एहसास) 

इक मीठी - सी कसक है दिल में, 
जो दिल से छुपाई नहीं जाती.. 
इक उलझी - सी कहानी है दिल में, 
जो दिल से बतायी नहीं जाती.. 
जाने क्या है, उनके दिल मे - 
नेह या नफरत? 

ऐ खुदा, तू ही बता 
उलझन ये दिल से सुलझाई नहीं जाती!


ULJHAN (First feeling of love) A Hindi Poem

Ek mithi-si kasak hai dil mein,
Jo dil se chhupayi nahi jati..
Ek uljhi-si kahani hai dil mein,
Jo dil se batayi nahi jati..
Jaane kya hai, unke dil mein -
neh ya nafrat?

Aye khuda, tu hi bata
Uljhan ye dil se suljhayi nahi jati !!

(My emotions my words - Tara kumari).

More poems you may like :-
1. एहसास
2. अश्कों से रिश्ता
3 निशाँ का सवेरा
4. वक्त और त्रासदी




मैंने इस ब्लॉग में हमारे आसपास घटित होने वाली कई घटनाक्रमों को चाहे उसमें ख़ुशी हो, दुख हो, उदासी हो, या उत्साहित करतीं हों, दिल को छु लेने वाली उन घटनाओं को अपने शब्दों में पिरोया है. कुछ को कविताओं का रूप दिया है, तो कुछ को लघुकथाओं का |

Poem
July 19, 2014
3

Comments

Post a Comment

Search

Theme images by Michael Elkan