Skip to main content

भावनायें, सपने और हकीकत A Hindi Poem on Emotions, Dreams and Reality


भावनायें, सपने और हक़ीक़त 

कभी-कभी कुछ भावनाएं 
बिना दस्तक दिए
हमारे दिलो-दिमाग में,
घर कर जाती हैं |
में पता भी नहीं चलता, 
कोई कब दिल की गहराइयों में बस गया|
कुछ खट्टी कुछ मीठी एहसासें
इन भावनाओं को सींचती हैं और 
मजबूत करती जाती हैं| 
वक्त के साथ ये भावनाएं, 
एक रंगीन सपने का आकार लेने लगती हैं - 
जिसके आगे यह पूरी दुनिया पराई लगती है|
अपना और सच्चा लगता है तो बस वह सपना
जिसे पाने का जज्बा दिल में होता है, 
लेकिन, 
जाने क्यों ईश्वर ने हकीकत शब्द भी बनाया, 
जो सपनों को तोड़ देती है, 
दिल को जख्म देकर, 
मुस्कुराने और खुश रहने की मशवरा देती है, 
शायद, 
मतलबी दुनिया को समझने, 
और इंसान को मजबूत बनाने के लिए, 
ईश्वर ने यह सिलसिला जीवन में दिया - 
भावनाएं, सपने और हकीकत |

जहां कड़वाहट भी है तो प्यार का अनमोल एहसास भी |

More poems you may like:-
1. Lonely "present"
2.एहसास
3.नहीं हारी हूं मैं
4. निशां का सवेरा




Emotions, Dreams and Reality Hindi Poem

(A truth-embedded in pain and love)

Kabhi kabhi kuch bhawnayen..Bina dastak diye,
hamare dilo-dimag mein,
ghar kar jati Hain.

Hamen pata bhi nahi chalta,
koi kab dil ki gahrayi mein bas gaya,Kuch khatti kuch mithi-ehsasen,
in bhawnawon ko sinchti hain aur,majbut karti jati hain.

Wqt ke sath ye bhawnayen,
ek rangin sapne ka aakaar lene lagti hain-jiske aage ye puri duniya parayi lagti hai.

Apna aur sachcha lagta hai to bas wo sapna -
Jise pane ka jajba dil mein hota hai,Lekin,jane kyun -ishwar ne'haqikat' shabd bhi banaya,jo-Sapnon ko tor deti hai,

dil ko jkham dekar,
Muskarane aur khush rahne ki mashwira deti hai,Shayd,

matlabi duniya ko samjhne,aur insaan ko majbut banane ke liye,ishwar ne ye silsila jiwan mein diya-bhawnayen..sapne aur haqikat.Jahan kadwahat bhi hai to pyar ka anmol ehsas bhi!!


(My emotions my words-Tara kumari).

Comments

Popular posts from this blog

ना देख सका वो पीर Na dekh saka wo pir - Hindi poem

दिल मेरा यूँ छलनी हुआ Dil Mera yun chhalni huwa - Hindi poem

मैं हूँ कि नहीं? Main Hun ki nahin? - Hindi-poem

फादर्स - डे Father's day - A Hindi poem

चाहत Chahat -Hindi poem