Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2014

उलझन (प्यार का पहला एहसास) ULJHAN (First feeling of love) - Poem in Hindi

उलझन (प्यार का पहला एहसास)  इक मीठी - सी कसक है दिल में,  जो दिल से छुपाई नहीं जाती..  इक उलझी - सी कहानी है दिल में,  जो दिल से बतायी नहीं जाती..  जाने क्या है, उनके दिल मे -  नेह या नफरत? 
ऐ खुदा, तू ही बता  उलझन ये दिल से सुलझाई नहीं जाती!

ULJHAN (First feeling of love) A Hindi Poem Ek mithi-si kasak hai dil mein,
Jo dil se chhupayi nahi jati..
Ek uljhi-si kahani hai dil mein,
Jo dil se batayi nahi jati..
Jaane kya hai, unke dil mein -
neh ya nafrat?

Aye khuda, tu hi bata
Uljhan ye dil se suljhayi nahi jati !!

(My emotions my words - Tara kumari).

More poems you may like :-
1. एहसास
2. अश्कों से रिश्ता
3 निशाँ का सवेरा
4. वक्त और त्रासदी